ब्लॉग पुरालेख

सात……..

सात एक अंक है,
क्या सिर्फ एक अंक है ???
दो लोग जब पास होते है,RAINBOW
दूर हो के भी साथ (सात) होते है,
जब होता कोई सात (साथ) दिल के,
सपने दिखता सात जन्मों के,
कभी बताता इंद्रधनुष मैं रंग है सात,
कभी दिखता सात अजूबे दुनिया के,
जैसे नहीं मानते सात सुर, सात महाद्वीपों को,DIL
वेसे ही गोते खाता दिल भी सात समुन्दर में,
हफ्ते मैं सात दिन दिल उसे चाहता है,
सात तारों (शप्त ऋषि) मैं भी याद आता है.
सात सुर, सात वादे, सात फेरे
सभी सात कि माया है,
सभी तरफ सात छाया है.
आठों दिशाओ मैं तुम पास हो,
दुनिया जीत लेंगे अगर तुम साथ हो.

आंखो की जुबान

रूप है तेरा जेसे उतरी हो परी,

कांटों के बीच मैं खिली हुई कली.

गुलाब की कली सी आँखे है तेरी,Untitled
आंखो मैं तेरे दिल का आईना है कही.
जाने क्यूं बातें करते है तेरी आंखो से हम,
पता है आंखे है तेरी जुबान तो नहीं.
दिल की आँखों से तकते रहते है तुझे,
जानते भी नहीं की गलत है या सही.
बातें तो करती है आंखे भी हमसे,
लगता है आँखे तेरी बेजुबान नहीं.

प्यार ही तो अपना है

प्यार एक मीठा सपना है

एक सपना है जो सिर्फ अपना है

सुने रास्तों को ताकना है
अकेले मैं भी सजना है
बस प्यार ही एक अपना है
मिलना है फिर बिछड़ना है
सपनो से फिर दुरी रखना है
मिलके उससे फिर से
फिर सपनो मैं रंग भरना है
बस प्यार ही एक अपना है
जो मीठा सा सपना है
सपनो के तो पंख है होते
दुनिया वाले जब चेन से सोते
मुझे तभी बस जागना है
याद मैं उसकी पूरी रात
करवटें भी तो पलटना है
बस प्यार ही सच्चा सपना है
क्यूँ बस एक सपना ही तो अपना है

क्यूँ कहते हो?????

पास आकर हमे दूर जाने को कहते हो,
Image

दिल लगाकर भूल जाने को कहते हो,

यादो से दिल लगाने को कहते हो,

बिन बारिस के खीखिलाने को कहते हो,

बिना लो के शमा जलाने को कहते हो,

हम तो नादान है इस लिए आप,

जो भी कहते हो शायद सच ही कहते हो……

कभी तो अपने दिल को खोलो!!!!!!!!!!!!!!!

कभी यादों की छाँव से खेलो

कभी पेड़ों से शीतलता ले लो,
कभी सूरज मैं आंखे डालो
कभी अपनों को गले लगा लो|

.
कभी संभालो पागल दिल को
कभी गगन मैं दूर उड़ा दो,
प्यार हमेशा दिल मैं पालो
रस्ते मैं कभी यूँ ही मुस्करा दो|
.
कभी आँखों से बात करो तुम
कभी सांसों की ताल सुना दो,
प्यार करे जो तुमको दिल से
कभी उसका भी आभार जाता दो|
.
कभी सपनों मैं उन्हें निहारो
कोई खिलौना हाथ मैं लेकर

कभी उन्ही की नींद चुरा लो,
उसे ही दिल की बात बता दो|
.
कभी तो अपने दिल को खोलो
किसी को अपने राज बता दो,
दर्द छिपा है दिल मैं जो भी
आँखों के रस्ते उसे बहा दो|
.
जिंदगी भर जाएगी खुशियों से यूँ ही
कभी दुश्मन को भी गले लगा लो,
प्यार रखो इन आँखों मैं अब तुम
दिल मैं भी भगवान् बसा लो|

कभी मुझसे यूँ ही!!!!!!!!!!!

चाहता हूँ मै तुझे,
धड़कन तू है मेरी,
इस बात की सच्चाई,
कभी तुझे वक्त बताएगा
तू ख़ास है कितनी,
जिंदगी मैं मेरी|
मेरे बिना ये जज़्बात,
तुझे कोंन दिखाएगा||
जा रही है छोड़ के,
जिंदगी अधर मैं है|
नफरतों के तूफानों से इसे,
उस पार कोंन कराएगा||
तू रुसवा जो हो गई,
कभी मुझसे यूँ ही|
चिराग इस जीवन का,
वहीँ बुझ जाएगा||
लिपट जाती है तू कही,
मुझसे इस कदर|
उस सासों के एहसास को,
कोंन मिटाएगा||
खुवाबों की हरकतें,
दिल को करती है बेचैन|
तेरे एक इशारे पे तो,
ये समां भी रो जाएगा||
परे उन रातों के,
नकली खुवाबों से कहीं|
जिंदगी का गुलिस्ता,
इस धरा पे कोंन सजाएगा||
तू आ जा थाम ले मेरा हाथ,
फूल खिल जाएगा,
खुवाब मिल जाएगा|

भूल न जाऊं!!!

भूल न जाऊं कहीं उसको,
जिसने मेरा साथ दिया|
भूल न जाऊ कहीं उसको,
दिल जिसने आज़ाद किया||
जब भी सोचूं यादों से मैं,
आँखों मैं वो बस्ती जाए|
हरदम सोचूं उसको ही मैं,
साँसों से वो चलती जाए||
जीवन है अब यादें उसकी,
बातें उसकी, सांसें उसकी|
भूल के भी नहीं भूल सकता,
झील से गहरी आँखें उसकी||
केसे भूलूं उसको जिसने,
इतना प्यारा संसार दिया|
भूल न जाऊं कहीं उसको,
जिसने जीवन दान दिया||

प्यार से न प्यार क्यूँ

प्यार से न प्यार क्यूँ, जिंदगी भी है पराई,
दिल में हर तरफ है क्यूँ, इतनी दरिंदगी समाई||
दुश्मनी क्यूँ आज करता, दोस्ती को छोड़ के,
प्यार दो और प्यार लो, बात ये सब ने भुलाई||
दो दिल भी मिलते है आज, धरती के कोने में कही,
कत्ल हो जाता है उनका, गर देते है दिखाई||
उस दिल को गिरा दो, स्वछंद उड़े जो आकाश में,
किसने दिया ये हक़ उनको, सिख किसने ये सिखाई||
प्यार न देखे धर्म न जात, होता है ये साँस से,
क्यूँ इज्ज़त कहते है उसे, किसी की जिंदगी पराई||
जिस दिन समझ लेंगे सब, प्यार के मूल्य को,
कष्ट न होगा कही, न होगी पीर पराई||

जिंदगी है बहती रेत, फिसलती है हाथ से,
जियो तो प्यार से जियो, फिर तो होनी है जुदाई||
जिंदगी भी आज है, जिंदगी मैं समाई,
बस प्यार हो सभी के दिल मैं, इसी मैं सबकी भलाई||

नाम लिखना बाकि था

दिल के कोरे कागज़ पे एक नाम लिखना बाकि था,
उनकी आँखों में बस थोडा सा जाम लिखना बाकि था,
हमने तो समझा था की हमारी कविता ख़त्म हो गयी,
लेकिन अभी तो एक तूफ़ान लिखना बाकि था,
छुप गया था चाँद भी बादलों मैं कही,
पर उसे भी चांदनी को पैगाम लिखना बाकि था,
दिल भी सो गया है आगोश मैं ले के उसे,
एकटक देख रहा हूँ जो मकान बिकना बाकि था,
क्यूँ जा रही है वो मुझे यूँ तड़पता छोड़ के,
अभी तो सांसों मैं उसी का नाम लिखना बाकि था,
सोचता हु तनहाइयों में क्यूँ अकेला आज हूँ,
काश लिख देता ख़त में, सिर्फ उसका नाम लिखना बाकि था