कभी मुझसे यूँ ही!!!!!!!!!!!

चाहता हूँ मै तुझे,
धड़कन तू है मेरी,
इस बात की सच्चाई,
कभी तुझे वक्त बताएगा
तू ख़ास है कितनी,
जिंदगी मैं मेरी|
मेरे बिना ये जज़्बात,
तुझे कोंन दिखाएगा||
जा रही है छोड़ के,
जिंदगी अधर मैं है|
नफरतों के तूफानों से इसे,
उस पार कोंन कराएगा||
तू रुसवा जो हो गई,
कभी मुझसे यूँ ही|
चिराग इस जीवन का,
वहीँ बुझ जाएगा||
लिपट जाती है तू कही,
मुझसे इस कदर|
उस सासों के एहसास को,
कोंन मिटाएगा||
खुवाबों की हरकतें,
दिल को करती है बेचैन|
तेरे एक इशारे पे तो,
ये समां भी रो जाएगा||
परे उन रातों के,
नकली खुवाबों से कहीं|
जिंदगी का गुलिस्ता,
इस धरा पे कोंन सजाएगा||
तू आ जा थाम ले मेरा हाथ,
फूल खिल जाएगा,
खुवाब मिल जाएगा|

Advertisements

About TARUN

जिंदगी के बारे में मैं क्या बताऊँ, दिल चाहे लिखना पर लिख न पाऊं, सोचता हूँ कुछ तो बता ही जाऊं, पर इन नासमझ हाथों को केसे समझाऊं, लिखना तो चाहते है ये भी बहुत कुछ, पर लिखने के शब्द कहाँ से लाऊं, अब आगे और क्या बताऊँ, दिल तो चाहे लिखना पर लिख न पाऊं.

Posted on अक्टूबर 7, 2011, in दिल तड़पता है and tagged , , , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink. 5 टिप्पणियाँ.

  1. उस सासों के एहसास को,
    कोंन मिटाएगा||
    bahut khub

  2. jisko chahte ho itni shiddat se…saath de jaaye tumahara
    tumhare khwab main uske khwab mile, ho jaaye har ahsaas tumhara
    dilbar ka didar hain aisa, kar jaayega tumhari adhoori hasti ko pura

    Really like your blog title…also the way you have expressed the emotions…beautiful

  3. यह रोमानियत कई भाव जगा जाती है.
    बेहतरीन उम्दा कविता.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: